सबसे कम ब्याज दर पर गोल्ड लोन का लाभ उठाना आसान, वित्तीय आपा

कम इंटरेस्ट रेट पर आसानी से लें गोल्ड लोन, ज्वेलरी आएगी इमरजेंसी में काम

  • Gold Loan
  • 30 Days ago
कम इंटरेस्ट रेट पर आसानी से लें गोल्ड लोन, ज्वेलरी आएगी इमरजेंसी में काम
HIGHLIGHTS

  • आपात स्थिति में आपके लिए सोने का उपयोग कैसे करें
  • कितना है इंटरेस्ट रेट?
  • गोल्ड लोन ब्याज दर
  • गोल्ड लोन लेते समय इन बातों का ध्यान रखें:
  • गोल्ड लोन के फायदे 

कई बार ऐसी इमरजेंसी आती है, जब हमें पैसों की बहुत आवश्यकता होती है। बिजनेस के लिए पैसे की आवश्यकता हो या अचानक से होने वाले खर्च हों, इन हालातों में घर में रखा सोना आपके काम आ सकता है। यह आपकी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करता है। गोल्ड का हाई वैल्युएशन और ईजी प्रोसेसिंग होने के कारण इस पर आसानी से लोन मिल जाता है। आमतौर पर गोल्ड लोन उन लोगों को भी आसानी से मिल जाता है, जिनका सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर कम होता है। लो सिबिल स्कोर वाले लोगों को लोन देने में बैंक या वित्तीय संस्थाएं हिचकती हैं। ऐसे में गहने या सिक्के जैसे गोल्ड को गिरवी रखकर लोन लिया जा सकता है। पैसा चुकाने के बाद गिरवी रखी गई ज्वेलरी या सोना ग्राहक को वापस मिल जाता है। दूसरे लोन की अपेक्षा गोल्ड लोन का इंटरेस्ट रेट भी कम होता है और इजी प्रोसेसिंग होने के कारण यह यह जल्दी अप्रूव हो जाता है।

कितना है इंटरेस्ट रेट?

गोल्ड लोन लेने से पहले इंटरेस्ट रेट के बारे में ठीक से पता कर लेना चाहिए। गोल्ड लोन के लिए फाइनांस कंपनियों और बैंक की इंटरेस्ट रेट अलग-अलग होती हैं, जो कि 10 प्रतिशत से 15 प्रतिशत के बीच हैं। कई वित्तीय संस्थान गोल्ड लोन देते समय प्रोसेसिंग फीस भी चार्ज करते हैं। आपको ध्यान रखना चाहिए कि प्रोसेसिंग फीस लोन की रकम की अधिकतम 0.5-2 प्रतिशत तक ही हो सकती है। वहीं, कई बैंक सोने की गुणवत्ता जांचने में किए गए खर्च के नाम पर वैल्यूएशन चार्ज के भी पैसे लेते हैं।

आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि गोल्ड की कुल वैल्यू का 75% ही लोन मिलता है। आप जिस बैंक या नॉन-बैकिंग फाइनेंस कंपनी में गोल्ड लोन का आवेदन करते हैं, वह पहले आपके सोने की गुणवत्ता की जांच करते हैं और जितना गोल्ड शुद्ध होता है, उसी पर लोन देते हैं। 

गोल्ड लोन लेते समय इन बातों का ध्यान रखें:

  • किसी भी अन्य लोन की तरह गोल्ड लोन री-पेमेंट में अनुशासन जरूरी है। अगर आप निर्धारित तिथि पर भुगतान नहीं करते हैं तो लोन देने वाला बैंक आप पर 2-3 प्रतिशत का जुर्माना लगा सकता है।
  • अगर आप गोल्ड लोन की तीन से ज्यादा ईएमआई नहीं भरते हैं तो पेनाल्टी की रकम बढ़ जाती है। 
  • गोल्ड लोन देते समय जिस डॉक्यूमेंट पर फाइनांस कंपनी आपसे हस्ताक्षर कराती है, उसमें यह शर्त होती है कि अगर आप 90 दिनों तक लोन की ईएमआई नहीं चुकाते हैं तो ग्रेस पीरियड के बाद अपनी बकाया रकम की वसूली के लिए बैंक आपका गिरवी रखा गोल्ड बेच सकता है।

गोल्ड लोन के फायदे:

  • गोल्ड लोन बहुत जल्दी मिल जाता है। कुछ लोन कंपनी तो कुछ मिनट में लोन देने का दावा करती हैं।
  • ज्यादा डॉक्यूमेंट जमा करने की ज़रुरत नहीं होती।
  • गोल्ड लोन किए लिए इनकम प्रूफ देने की ज़रुरत नहीं होती। 
  • यदि आप सैलरी पाते हैं या सेल्फ-एम्प्लॉयड हैं तो भी आपको गोल्ड लोन मिल सकता है, बस आपके पास गोल्ड होना चाहिए।
  • गोल्ड लोन की इंटरेस्ट रेट पर्सनल लोन से कम हो सकती है।
  • आप गोल्ड गिरवी रखकर पैसे उधार लेते हैं, इसलिए काफी कम समय में लोन एप्रूव हो जाता है।
  • होम लोन या दूसरे लोन के लिए आपका सिबिल स्कोर यानी क्रेडिट स्कोर जरूरी होता है, लेकिन गोल्ड लोन सिक्योर लोन होने कारण इसमें क्रेडिट हिस्ट्री की जरूरत नहीं पड़ती।
  • गोल्ड लोन लेने के लिए किसी भी सर्टिफिकेट या गारंटी की जरूरत नहीं होती।
  • गोल्ड लोन में होम लोन या पर्सनल लोन की तरह समय से पहले चुकाने पर प्री-पेमेंट पेनाल्टी नहीं लगती।
  • पर्सनल लोन की तरह आप गोल्ड लोन की राशि को किसी भी कार्य के लिए उपयोग कर सकते हैं।